Breaking News

तुर्की के बारें में कुछ बातें :-

0 0

तु्र्की काे यूराेप का मरीज कहा जाता था । पान इस्लामिज्म का नारा अब्दुल हमीद द्वितीय ने दिया था । तुर्की में एकता और प्रगति समिति का गठन 1889 ई. में हुआ ।

आधुनिक तु्र्की का निर्माता मुस्तफा कमाल पाशा काे माना जाता है । युवा तुर्क आन्दाेलन की शुरूआत अब्दुल हमीद द्वितीय के शासनकाल में 1908ई. में हुई ।

प्रथम विश्व युध्द के बाद तुर्की के साथ भीषण अपमानजनक संधि सेब्र की संधि 10 अगस्त, 1920 ई. काे की गई । मुस्तफा कमाल पाशा ने इसे मानने से इनकार कर दिया ।

मुस्तफा कमाल पाशा का औपचारिक जन्म तिथि 19 मई, 1881 में सेलेनिका में हुआ था । इनके पिता का नाम अली रजा था । प्रारंम्भ में कमाल पाशा एकता और प्रगति समिति के प्रभाव में आया ।

एक सेनापति के रूप में कमाल पाशा ने गल्लीपाेती युध्द में शानदार सफलता हासिल की । इसके बाद 1919 ई. में कमाल पाशा ने सैनिक पद से इस्तीफा दे दिया ।

1919 ई. के अखिल तुर्क कॉग्रेस के प्रथम अधिवेशन की अध्यक्षता मुस्तफा कमाल पाशा ने की । 1923 ई. में तुर्की व यूनान के बीच में लाेजान की संधि हुई ।

23 अक्टूबर, 1923 ई. काे तुर्की गणतंत्र की घाेषणा हुई । 20 अप्रैल, 1924 ई. काे तुर्की में नए संविधान की घाेषणा हुई । इस्ताम्बुल का पुराना नाम कुस्तुनतुनिया था ।

तुर्की के नए गणतंत्र का राष्ट्रपति मुस्तफा कमाल पाशा हुआ । रिपब्लिकन पीपुल्स पार्टी का संस्थापक कमाल पाशा था ।

25 नवंबर, 1925 ई. काे तु्र्की में टाेपी और औरताें काेे बुरका पहनने पर कानूनी प्रतिबंध लगाया गया । कमाल पाशा की मृत्यु 1938 ई. में हाे गई ।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *